Pages

Friday, 3 July 2009

चाँद की रौशनी में नहाया न कर

ऐ सनम संगदिल दिल जलाया न कर
गम की सुइयां यहाँ पर चुभाया न कर
प्यार दिल में नही रूह में है बसा
तू मेरे इश्क को आजमाया न कर
मेरी आंखों में सपने हैं तेरे सजे
मेरी आंखों से नीदें चुराया न कर
सारे जुगनू बदन से लिपट जायें गे
चाँद की रौशनी में नहाया न कर
चाह कर भी तुझे हम मना न सकें
रूठ कर के कभी दूर जाया न कर

8 comments:

Nirmla Kapila said...

prem ras me doobi ek sundar bhaavmay aabhivyakti shubhakaamanaayen

ओम आर्य said...

bhiayaa dil dukhao hi mat .............dekhate hai kaise jate hai ..........pyaar me bhi dam hota hai ................pyar ke aage sab kuchh jhooti our chhoti........sundar

‘नज़र’ said...

waah ju bahut sundar

M VERMA said...

sundar rachana

"अर्श" said...

प्रेम की भूरी भूरी बातें है इसमें बहोत ही नजाकत के साथ कही है आपने...

अर्श

ज्योति सिंह said...

ऐ सनम संगदिल दिल जलाया न कर
गम की सुइयां यहाँ पर चुभाया न कर
प्यार दिल में नही रूह में है बसा
तू मेरे इश्क को आजमाया न कर .
bahut khoob kah dala .itni sundarata ke saath .main naam se prabhit hokar aa gayi .--awaz do humko .

Shama said...

Har rachna alag se aawaaz detee hai..harek pankti apnee or akarshit kartee hai..! Kin kin ko dohraun?
"baagwaanee" pe tippanee ke liye tahe dilse shukriya!

http://shama-kahanee.blogspot.com

http://shamasansmaran.blogspot.com

http://aajtakyahantak-thelightbyalonelyspot.blogspot.com

http://kavitasbyshama.blogspot.com

sakhi with feelings said...

kya bat hai bhaut dilkash likha hai har sher