Pages

Saturday, 4 July 2009

यादों की कुर्चियाँ

समंदर से आती लहरों के बीच ..साहिल की रेत पर ...सूखे खुजूर के पेड़ के नीचे बैठ कर भूरी आंखों ...काली जुल्फों वाला शहजादा ...पुरनम आंखों ...घम्ज़दा दिल के साथ ...ऐसा लगता था जैसे बीते दिनों की यादें ...टूटे सपनों और बिखरे खुवाबों की कुर्चियों को अपनी पलकों से चुनने की ..नाकाम कोशिश कर रहा था ...

4 comments:

"अर्श" said...

बहोत ही खुबसूरत खयालात ... बहोत बहोत बधाई...

अर्श

ओम आर्य said...

ek alag sa par najuk khayalat dikhata........

‘नज़र’ said...

अपना ही अंदाज़ है

---
तख़लीक़-ए-नज़र

M VERMA said...

बेहतरीन