Pages

Wednesday, 12 May 2010

मिलन की कोई रात आई ही नहीं


रात तारीकियों का पहरा था
मेरी खिड़की के दोनों दरवाज़े
हवा के तुन्द झोंकों से लड़ रहे थे
चंद जुगनू कभी चमक करके
तीरगी से भरी मेरी कोठरी में
खैरात में रौशनी के चंद टुकड़े उंडेल देते थे
सारी दुनिया थी अपने ख़्वाबों में
मैं तुम्हारे ख़्यालों में जागता ही रहा
वक्त की रफ्तार और दिल की धड़कनों की शिद्दत
आंकने की बेजा कोशिश कर रहा था
ज़ेहन के पुराने दफ्तर से
हर एक याद काग़ज़ पर उतरने को बज़िद थी
बिस्तर की सिलवटें कराह रही थीं
दर्द आंखों के रस्ते गालों को छू रहा था
तुम्हारी बातें कानों के परदे से बराबर टकरा रही थीं
हर याद बस तुम्हारे गीत गाने को कह रही थी
किसी को कुछ पता नहीं था
सब अपनी ही गा रहे थे
हां, वह सब अपनी जगह सही भी थे
महीना भी तो यही था
मई का
हां, यही तारीख भी थी
समां भी कुछ ऐसा ही था
हां, उस वक्त मैं तन्हा नहीं था
तुम्हारी बाहों के घेरे थे
तुम्हारी ज़ल्फों का साया था
तुम्हारे चेहरे की ख़ूबसूरत रौशनी थी
तुम्हारे बदन की ख़ुशबू से
पूरा कमरा भरा हुआ था
हां, ठीक उसी वक्त
हम ने ख़िडकी के बाहर
सितारे को टूटते देखा था
और फिर यक-ब-यक
हम दोनों ने दुआ के लिए हाथ उठा लिए थे
तुम्हें याद है हमने क्या मांगा था
मेरे ख़ुदा, हम कभी जुदा ना हों
मगर उस हसीन रात के बाद
मिलन की कोई रात आई ही नहीं

10 comments:

kshama said...

Aise lamhaat guzare nahi guzarte..lagta hai waqt tahm gaya ho..milan ho ya judayi..waqt ki raftaar wahi..

Avinash Chandra said...

achchhi lagi :)

वन्दना said...

उफ़्…………………?

AlbelaKhatri.com said...

बहुत खूब.........

खूबसूरत बन्दिश अलफ़ाज़ की भी......जज़्बात की भी...........

बधाई!

sangeeta swarup said...

जज्बातों को खूब शब्द दिए हैं....अच्छी रचना

संजय भास्कर said...

बहुत खूब, लाजबाब !

dimple said...

तुम्हें याद है हमने क्या मांगा था
मेरे ख़ुदा, हम कभी जुदा ना हों
मगर उस हसीन रात के बाद
मिलन की कोई रात आई ही नहीं

इतना खूबसूरत लिखा है इक पूरा चित्र सा खिंच गया.टूटे सितारे से मांगी दुआ भी कबूल न हुई.

डा. हरदीप सँधू said...

अच्छी रचना....

बधाई!

Maria Mcclain said...

You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

Neelam said...

हम ने ख़िडकी के बाहर
सितारे को टूटते देखा था
और फिर यक-ब-यक
हम दोनों ने दुआ के लिए हाथ उठा लिए थे
तुम्हें याद है हमने क्या मांगा था
मेरे ख़ुदा, हम कभी जुदा ना हों
मगर उस हसीन रात के बाद
मिलन की कोई रात आई ही नहीं........wah bahut khoob....
kahte hain waqt kabhi nahi rukta..magar jab kabhi milan ki ghadhi aati hai ya judaai ke lamhe..tab waqt thahar saa jata hai meel ke patther ki tarah.