Pages

Sunday, 10 January 2010

जैसे मां बच्चे को सीने से लगा लाई हो


अब के फिर जाग के रातों की ख़नक देखी है
कितनी सुंदर है वो एहसास की मूरत की तरह
जैसे पाज़ेब किसी ने कहीं छनकाई हो
जैसे मूरत कोई रस्ते पे निकल आई हो
जैसे गुलनाज़ कोई टब से नहा कर निकले
जैसे खुश्बू लिए बाद-ए-सबा आई हो
जैसे जंगल में कोई राग नया छेड़े हो
जैसे बदमस्त कोई साज़ नया छेड़े हो
जैसे कुछ मोर कहीं नाच में मस्त रहें
जैसे कोयल ने कहीं कूक बजाई हो
जैसे दिलदार की पलकों में कोई ख़्वाब पले
जैसे मासूम सी मूरत मेरे घर आई
ऐसे चलती है वो छुप-छुप के सभी से अक्सर
जैसे दोशीज़ा कोई यार से मिल आई हो
चांद भी उसके सदा साथ चला करता है
जैसे बचपन से क़सम उसने यही खाई हो
सब गुनाहों को ये ऐसे छुपा लेती है
जैसे मां बच्चे को सीने से लगा लाई हो

15 comments:

अजय कुमार झा said...

वाह जी बहुत ही सुंदर पंक्तियां लिखी हैं , एक दम कमाल

अजय कुमार झा

Sonalika said...

bhut khoobsurt
tumhe nahi lagata bahut din baad aisa kuch likha hai
khoobsurt lafjo se sajai hai rachana
ek baar fir kahungi bahut khoobsurt

वन्दना said...

waah waah........bahut hi sundar ......ise padhkar to wo gaana yaad aa gaya.......
ek ladki to dekha to aisa laga

शबनम खान said...

Vandana ji ki trha hi apki rachna padhte hue man me yahi gana aa raha tha Ek ladki ko dekha toh aisa laga.jaise....
razi sahab apke toh kya kehne... ek raat ki itni tareef..khushnaseeb hogi vo rat jise apne tareef k ye alfaz bakshe..

Suman said...

nice

अमृत कुमार तिवारी said...

बहुत खूब....बहुत ही सुंदर प्रस्तुति

निर्मला कपिला said...

वाह बहुत सुन्दर रचना है बधाई। आशीर्वाद्

ज्योति सिंह said...

waah bahut hi khoobsurat rachna hai .achchha likhte hai aap

हरकीरत ' हीर' said...

जैसे खुश्बू लिए बाद-ए-सबा आई हो
जैसे जंगल में कोई राग नया छेड़े हो
जैसे बदमस्त कोई साज़ नया छेड़े हो
जैसे कुछ मोर कहीं नाच में मस्त रहें
जैसे कोयल ने कहीं कूक बजाई हो
जैसे दिलदार की पलकों में कोई ख़्वाब पले
जैसे मासूम सी मूरत मेरे घर आई

वाह ....राज़ी जी काफी पकड़ है शब्दों पर .....लिखते रहिये ......!!

रश्मि प्रभा... said...

maa se judi har baat hi alag hoti hai

देश अपरिमेय said...

ऐसे चलती है वो छुप-छुप के सभी से अक्सर
जैसे दोशीज़ा कोई यार से मिल आई हो
चांद भी उसके सदा साथ चला करता है
जैसे बचपन से क़सम उसने यही खाई हो........



बहुत सुन्दर बहुत ही सुन्दर शब्दों का अति सुन्दर प्रयोग

Prerna said...

bahut sunder

रंजना [रंजू भाटिया] said...

सब गुनाहों को ये ऐसे छुपा लेती है
जैसे मां बच्चे को सीने से लगा लाई हो...बेहद सुन्दर कहा आपने .शुक्रिया

कंचन सिंह चौहान said...

bahut sundar...

संजय भास्कर said...

बहुत से गहरे एहसास लिए है आपकी रचना ...